बिजली महादेव मंदिर

एक ऐसा मंदिर जहा सिर्फ शिवलिंग पर गिरती है बिजली और खंड खंड हो जाता है लिंग। जानिए क्या है इसके पीछे का रहस्य और क्यों गिरती है इस शिवलिंग पर बिजली। पाठकों हिन्दू धर्म में कई चौकाने वाले रहस्यों से भरा है। इन्ही में से एक रहस्य है बिजली महादेव का। इस मंदिर पर हर बारह साल में ठीक शिवलिंग के ऊपर गिरती है बिजली। हैरानी की बात तो यह है की ना ही मंदिर को, न ही किसी भी और वस्तु को कोई भी हानि पहुँचती है। यह सिलसिला युगों से चला आ रहा है। आइये पहले जानते हैं क्यों गिरती है रहस्यमई शिवलिंग पर बिजली।

बिजली महादेव की पौराणिक कथा

जब जब संसार पर संकट आया, भोले नाथ ने वह अपने ऊपर ले लिया। पुराणों के अनुसार, वशिष्ठ मुनि ने शंकर जी से विनती की। हे प्रभु, संसार को बिजली गिरने से होने वाले प्रकोप से बचाइए। वज्रपात न सिर्फ मनुष्यों को, परन्तु सभी जीव जंतु को हानि पहुंचता है. कृपया कोई समाधान करें। तब शिवजी ने इंद्र देव से इसका समाधान पुछा। शिवजी के पूछने पर इंद्रदेव ने कहा प्रभु, मेघो के बीच उत्पन्न होने वाली शक्ति का निकास आवश्यक है। प्राकृतिक है, इसको रोका नहीं जा सकता। तो शंकर जी ने इंद्र से कहा यदि ऐसा है, तो हिमालय के पहाड़ों पर भुंतर नामक गांव के एक पहाड़ की चोटी पर मैं लिंग के रूप में स्थित हूँ। आप वज्रपात केवल उस लिंग पर करें।

तब से हर बारह साल बाद शिवलिंग पर और हर दूसरे साल मंदिर के ध्वज पर बिजली गिरती है। अचरज की बात तो यह है, की वह लिंग टूटकर चूर चूर हो जाता है। , और फिर स्वयं जुड़ जाता है। र तो और, बिजली सिर्फ शिवलिंग या ध्वज को ही क्षति पहुंचाती है। मंदिर के अन्य किसी भी भाग या पूरे पर्वत पर कही भी कोई भी हानि नहीं होती। जब लिंग पर बिजली गिरती है तो वह खंड खंड हो जाता है। मंदिर के पुजारी लिंग के टुकड़े ढूंढ़कर लाते हैं। और मक्खन से उसे जोड़ते हैं। मक्खन मरहम के लिए लगाया जाता है, जो की सिर्फ गायों के पहले दूध से बनाया जाता है। कुछ समय बाद, शिवलिंग ठीक पहले जैसा हो जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here