कौन थी रावण और मेघनाद की कुलदेवी ?

हमने अपनी एक पोस्ट में मेघनाद की शक्तियों के बारे में बताया था। मेघनाद ने अपनी कुलदेवी की आराधना करके अनेक सिद्धियां प्राप्त की थी। इस पोस्ट में हम रावण और मेघनाद की कुलदेवी के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

कुलदेवी का मंदिर  

रावण और मेघनाद की कुलदेवी का नाम निकुंबला था। रावण कुल की कुलदेवी निकुंबला की गहन साधना मेघनाद ने की थी। जिससे उसने अनेक ऐसी शक्तियां प्राप्त कर ली थीं जो हर कोई प्राप्त नहीं कर सकता था। निकुंबला देवी का मंदिर वर्तमान में मध्यप्रदेश के बैतूल जिला मुख्यालय से लगभग 8 किलोमीटर दूर बाजार गांव में स्थित है।मेघनाद ने इसी स्थान पर देवी की साधना की थी। इसलिए यहाँ पर देवी की प्रतिमा के सामने मेघनाद की भी प्रतिमा है। ऐसी मान्यता है कि मेघनाद देवी निकुंबला की साधना करके यहीं से पाताललोक गया और दैत्य गुरु शुक्राचार्य से भेंट की। गुरु के प्रति समर्पण से उसने शुक्राचार्य को प्रसन्न कर लिया और शुक्राचार्य से दीक्षा प्राप्त की। तब शुक्राचार्य ने मेघनाद से देवी निकुंबला की विधि विधान से साधना करने के लिए कहा। ऐसा कहकर गुरु ने उसे एक गुप्त मन्त्र और विधि बताई।

रावण के मृत्यु का रहस्य जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

कुलदेवी का वरदान

मेघनाद ने इस साधना में कोई कमी नहीं की और कुलदेवी को प्रसन्न किया। देवी ने उसे एक रथ दिया और कहा कि जब भी तू किसी युद्ध में जायेगा तो मेरा अभिषेक और खप्पर बलि अर्चना करके इस रथ पर सवार होकर जाना। ऐसा करने से तेरे शत्रुओं का संहार निश्चित है।कुलदेवी के इस वरदान से किसी के लिए भी मेघनाद को पराजित करना असंभव था। मेघनाद ने निकुंबला देवी की साधना से अनेक दिव्य सिद्धियों को प्राप्त किया था।एक बार उसने भगवान् राम और लक्ष्मण को नागपाश में बाँध दिया था। जब अगली बार युद्ध हुआ तब युद्ध से पूर्व मेघनाद निकुंबला देवी की पूजा करके तंत्र करने जा रहा था। विभीषण द्वारा हनुमान जी को इस बात का पता चल गया था । तब हनुमान जी ने मेघनाद की इस पूजा को रोक लिया अन्यथा मेघनाद की ही विजय होती । परन्तु इसे यदि प्रारब्ध के दृष्टिकोण से देखा जाए तो विभीषण तो एक माध्यम मात्र थे जिससे रावण और मेघनाद के भेद भगवान को पता लगे।

कहां है मंदिर?

निकुंबला देवी का यह मंदिर एक शक्तिपीठ है। वर्तमान में भी निकुंबला देवी का कुछ विशेष दिनों पर अभिषेक और हवन करके तंत्र किया जाता है। लोग यहाँ दूर दूर से देवी के दर्शनों के लिए आते हैं और देवी को किये गए अभिषेक का जल प्रसाद के रूप में अपने साथ ले जाते हैं। परन्तु निकुंबला देवी के दर्शन केवल दिन के समय में ही किये जाते हैं ।रात्रि में इस मंदिर में जाने की अनुमति नहीं है। रात्रि में यहाँ केवल अघोरी लोगों को ही जाने की अनुमति है। क्यूंकि अघोर साधकों को तंत्र करने के लिए यही समय उपयुक्त होता है।

तो यदि आप भी इस मंदिर में देवी निकुंबला के दर्शन कर चुके हैं तो अपने अनुभव कमेंट बॉक्स में लिखें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here