बहुत कम ही लोगों को पता है की मर्यादा पुरुषोत्तम राम और उनके आराध्य भगवान शिव के बीच अपने भक्तों के कारण भयानक युद्ध हुआ था। पुराणों में वर्णित कथा केअनुसार ये युद्ध श्रीराम के अश्वमेघ यज्ञ के समय लड़ा गया था।

बात उन दिनों की है जब श्रीराम का अश्वमेघ यज्ञ चल रहा था। यज्ञ के अश्व को भ्रमण के लिए छोड़ दिया गया था। अश्व  के साथ श्रीराम के छोटे भाई शत्रुघ्न के नेतृत्व में भारी सेना  भी चल रही थी। इस क्रम में कई राजाओं के द्वारा यज्ञ का घोड़ा पकड़ा गया लेकिन अयोध्या की सेना के आगे उन्हें झुकना पड़ा।

यह भी पढ़ें – श्री राम और हनुमान के महायुद्ध का रहस्य

शत्रुघ्न के अलावा सेना में हनुमान सुग्रीव और भरत पुत्र पुष्कल सहित कई महारथी उपस्थित थे जिन्हें जीतना देवताओं के लिए भी संभव नहीं था।

कई जगह भ्रमण करने के बाद यज्ञ का घोड़ा देवपुर पहुंचा जहां राजा वीरमणि का राज्य था। राजा वीरमणि श्रीराम एवं महादेव के अनन्य भक्त थे। उनके दो पुत्र रुक्मांगद और शुभंगद वीरों में श्रेष्ठ थे। राजा वीरमणि के भाई वीरसिंह भी एक महारथी थे।  राजा वीरमणि ने भगवान शंकर की तपस्या कर उन्हें प्रसन्न किया था और महादेव ने उन्हें उनकी और उनके पूरे राज्य की रक्षा का वरदान दिया था। जिस कारण देवपुर को महाकाल की नगरी भी कहा जाता था।

यह भी पढ़ें – भगवान श्रीराम ने क्यों किया शूद्र का वध?

महादेव के द्वारा रक्षित होने के कारण कोई भी उनके राज्य पर आक्रमण करने का साहस नहीं करता था। जब अश्व उनके राज्य में पहुंचा तो राजा वीरमणि के पुत्र रुक्मांगद ने उसे बंदी बना लिया और अयोध्या के सैनिकों से कहा कि यज्ञ का घोड़ा उनके पास है इसलिए वे जाकर शत्रुघ्न से कहें कि विधिवत युद्ध कर वो अपना अश्व छुड़ा लें।

अपने पुत्र के इस कार्य से वीरमणि चिंतित हो गए और अपने पुत्र से कहा की श्रीराम हमारे मित्र हैं और उनसे शत्रुता करने का कोई औचित्य नहीं है इसलिए तुम यज्ञ का घोड़ा वापस लौटा दो। इसपर रुक्मांगद ने कहा कि  मैंने तो उन्हें युद्ध की चुनौती भी दे दी है अतः अब उन्हें बिना युद्ध के अश्व लौटना हमारा और उनका दोनों का अपमान होगा।

कैसे हुई श्रीराम के भाइयों की मृत्यु ? – जानने के लिए यहां क्लिक करें।

इसलिए आप मुझे युद्ध की आज्ञा दें। पुत्र की बात सुनकर वीरमणि ने युद्ध  की आज्ञा दे दी। राजा वीरमणि अपने भाई वीरसिंह और अपने दोनों पुत्र रुक्मांगद और शुभांगद के साथ विशाल सेना ले कर युद्ध क्षेत्र में आ गए। इधर जब शत्रुघ्न को सूचना मिली कि उनके यज्ञ का घोड़ा बंदी बना लिया गया है तो वो बहुत क्रोधित हुए एवं अपनी पूरी सेना के साथ युद्ध के लिए युद्ध क्षेत्र में आ गए।

युद्ध शुरू होने से पहले हनुमान ने शत्रुघ्न से कहा की यह नगरी महाकाल द्वारा रक्षित है। अतः उचित यही होगा कि पहले हमें बातचीत द्वारा राजा वीरमणि को समझाना चाहिए और अगर हम न समझा पाए तो हमें श्रीराम को सूचित करना चाहिए। हनुमान की बात सुन कर श्री शत्रुघ्न बोले हमारे रहते अगर श्रीराम को युद्ध भूमि में आना पड़े यह हमारे लिए अत्यंत लज्जा की बात है अब जो भी हो हमें युद्ध तो करना ही पड़ेगा। यह कहकर वे सेना सहित युद्धभूमि में पहुच गए। और भयानक युद्ध छिड़ गया। 

एक भक्त लिए जब भोलेनाथ बने नौकर – जानने के लिए यहां क्लिक करें।

पुष्कल और वीरमणि में बड़ा घमासान युद्ध हुआ। अंत में पुष्कल ने वीरमणि पर दिव्य  बाणों से वार किया। इस वार को राजा वीरमणि सह नहीं पाए और मुर्छित होकर अपने रथ पर गिर पड़े। उधर  शत्रुघ्न ने दोनों भाइयों को नागपाश में बांध दिया। अपनी विजय देख कर शत्रुघ्न की सेना के सभी वीर सिंहनाद करने लगे।

उधर राजा वीरमणि की मूर्छा दूर हुई तो उन्होंने देखा कि उनकी सेना हार के कगार पर है। यह देख कर उन्होंने भगवान रूद्र महादेव शंकर का स्मरण किया।

महादेव ने अपने भक्त को मुसीबत में जान कर वीरभद्र के नेतृत्व में नंदी भृंगी सहित सारे गणों को युद्ध क्षेत्र में भेज दिया। महाकाल के सारे अनुचर उनकी जयजयकार करते हुए अयोध्या की सेना पर टूट पड़े–शत्रुघ्न हनुमान और सारे लोगों को लगा कि जैसे प्रलय आ गया हो। 

यह भी पढ़ें – भगवान शिव ने क्यों किया नरसिंह का वध ?

शत्रुघ्न ने हनुमान से कहा कि जिस वीरभद्र ने बात ही बात में दक्ष प्रजापति का मस्तक काट डाला था और जो तेज और समता में स्वयं महाकाल के समान है उसे युद्ध में कैसे हराया जा सकता है। यह सुनकर पुष्कल ने कहा की जो भी हो हमें युद्ध तो करना ही होगा। यह  कहते हुए पुष्कल वीरभद्र से हनुमान नंदी से और शत्रुघ्न भृंगी से जा भिड़े। वीरभद्र ने क्रोध से थर्राते हुए एक त्रिशूल से पुष्कल का मस्तक काट दिया। 

उधर भृंगी आदि गणों ने शत्रुघ्न पर भयानक आक्रमण कर दिया। अंत में भृंगी ने महादेव के दिए पाश में शत्रुघ्न को बांध दिया।  हनुमान अपनी पूरी शक्ति से नंदी से युद्ध कर रहे थे। काफी देर लड़ने के बाद कोई और उपाय न देख कर नंदी ने शिवास्त्र का प्रयोग कर हनुमान को मूर्छित कर दिया।

शिव तांडव स्तोत्र के अर्थ और जाप विधि – जानने के लिए यहां क्लिक करें।

अयोध्या के सेना की हार देख कर राजा वीरमणि की सेना में जबरदस्त उत्साह आ गया और वे बाक़ी बचे सैनिकों पर टूट पड़े। शत्रुघ्न पुष्कल एवं हनुमान सहित सारे सैनिक अब श्रीराम को याद करने लगे। अपने भक्तों की पुकार सुन कर श्रीराम तत्काल ही लक्ष्मण और भरत के साथ वहां आ गए। श्रीराम के आने पर जैसे पूरी सेना में प्राण का संचार हो गया।

जब श्रीराम लक्ष्मण और भरत ने देखा कि पुष्कल मृत्यु को प्राप्त हो चुके हैं तो उन्हें बड़ा दुःख हुआ। भरत तो शोक में मूर्छित हो गए। श्रीराम ने क्रोध में आकर वीरभद्र से कहा कि तुमने जिस प्रकार पुष्कल का वध किया है उसी प्रकार अब अपने जीवन का भी अंत समझो।

ऐसा कहते हुए श्रीराम ने सारी सेना के साथ शिवगणों पर धावा बोल दिया। जल्द ही उन्हें यह पता चल गया कि शिवगणों पर साधारण अस्त्र बेकार है इसलिए उन्होंने महर्षि विश्वामित्र द्वारा प्रदान किये दिव्यास्त्रों से वीरभद्र और नंदी सहित सारी सेना को मूर्छित  कर दिया।

भगवान शिव के पांच रहस्यमयी मंदिर – जानने के लिए यहां क्लिक करें।

श्रीराम के प्रताप से पार न पाते हुए सारे गणों ने एक स्वर में महादेव का आव्हान करना शुरू कर दिया जब महादेव ने देखा कि उनकी सेना संकट  में है तो वे स्वयं युद्ध क्षेत्र में प्रकट हुए। इस अद्भुत दृश्य को देखने के लिए परमपिता ब्रह्मा सहित सारे देवता आकाश में प्रकट  हो गए। जब महाकाल ने युद्ध क्षेत्र में प्रवेश किया तो उनके तेज से श्रीराम की सारी सेना मूर्छित हो गई।

जब श्रीराम ने देखा कि स्वयं महादेव रणक्षेत्र में आए हैं तो उन्होंने शस्त्र का त्याग कर भगवान रूद्र को दंडवत प्रणाम किया एवं उनकी स्तुति की। उन्होंने महाकाल की स्तुति करते हुए कहा कि हे महादेव आपके ही प्रताप से मैंने महापराक्रमी रावण का वध किया, आप स्वयं ज्योतिर्लिंग में रामेश्वरम में पधारे।

देवाधिदेव महादेव के शक्तिशाली अस्त्र – जानने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारा जो भी बल है वो भी आपके आशीर्वाद के फलस्वरूप हीं है।  यह जो अश्वमेघ यज्ञ मैंने किया है वह भी आपकी ही इच्छा से ही हो रहा है इसलिए हम पर कृपा करें और इस युद्ध का अंत करें। यह सुन कर भगवान रूद्र बोले की हे राम आप स्वयं विष्णु के रूप है मेरी आपसे युद्ध करने की कोई इच्छा नहीं है फिर भी चूंकि मैंने अपने भक्त वीरमणि को उसकी रक्षा का वरदान दिया है इसलिए मैं इस युद्ध से पीछे नहीं हट सकता अतः संकोच छोड़ कर आप युद्ध करें। श्रीराम ने इसे महाकाल की आज्ञा मान कर युद्ध करना शुरू किया।

श्रीराम ने अपने सारे दिव्यास्त्रों का प्रयोग महाकाल पर कर दिया पर उन्हें संतुष्ट नहीं कर सके। अंत में उन्होंने पाशुपतास्त्र का संधान किया और भगवान शिव से बोले की हे प्रभु आपने ही मुझे ये वरदान दिया है कि आपके द्वारा प्रदत्त इस अस्त्र से त्रिलोक में कोई पराजित हुए बिना नहीं रह सकता इसलिए हे महादेव आपकी ही आज्ञा और इच्छा से मैं इसका प्रयोग आप पर ही करता हूं।

यह भी पढ़ें – भगवान शिव अपने शीश पर चंद्र क्यों धारण करते हैं?

यह कहते हुए श्रीराम ने पाशुपतास्त्र भगवान शिव पर चला दिया। वह अस्त्र सीधा महादेव के हृदयस्थल में समा गया और भगवान रूद्र इससे संतुष्ट हो गए। उन्होंने प्रसन्नतापूर्वक श्रीराम से कहा कि आपने युद्ध में मुझे संतुष्ट किया है इसलिए जो इच्छा हो वर मांग लें। इस पर श्रीराम ने कहा कि हे भगवन यहां इस युद्ध क्षेत्र में भ्राता भरत के पुत्र पुष्कल के साथ असंख्य योद्धा वीरगति को प्राप्त हो गए है, उन्हें कृपया जीवित कर दीजिए। महादेव ने मुस्कुराते हुए तथास्तु कहा और पुष्कल समेत दोनों ओर के सारे योद्धाओं को जीवित कर दिया। इसके बाद उनकी आज्ञा से राजा वीरमणि ने यज्ञ का घोड़ा श्रीराम को लौटा दिया और अपना राज्य रुक्मांगद को सौंप कर वे भी शत्रुघ्न के साथ आगे चल दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here